Workshop on Television Programme Production

आम बोलचाल की हो टीवी की भाषा: प� रणय

जौनप� र वरिष� ठ पत� रकार � वं लाइव इंडिया के � क� सक� यूटिव प� रोड� यूसर प� रणय यादव ने कहा कि पत� रकारिता के शिक� षण संस� थाओं से विद� यार� थियों की � क भारी जमात निकल रही है। इससे इस क� षेत� र में रोजगार की च� नौतियां लगातार बढ़ रही है। श� री यादव श� क� रवार को वीरबहाद� र सिंह पूर� वान� चल विश� वविद� यालय जौनप� र के जनसंचार विभाग द� वारा आयेाजित � क दिवसीय टेलीविजन प� रोग� राम प� रोडक� शन की कार� यशाला के उद� घाटन समारोह में बतौर म� ख� य अतिथि बोल रहे थे। विश� वविद� यालय के रजत जयंती समारोह में यूजीसी द� वारा अन� दानित इस कार� यशाला में उन� होंने कहा कि पहले इलेक� ट� रानिक मीडिया में कान� वेन� ट के पढ़े बच� चे या बड़े शहरों के लोग आते थे। मगर अब छोटे शहरों के लोगों को भी अवसर मिल रहा हैं। मीडिया में रोजगार की च� नौतियों से निबटने के लि� विद� यार� थियों को अपडेट होने के साथ इसको व� यवहारिक और तकनीकी पक� ष पर विशेष ध� यान देना होगा।

उन� होंने तकनीकी सत� र में न� यूज चैनल की भाषा के विविध आयामों पर चर� चा की कहा कि टेलीविजन की भाषा आम बोलचाल की भाषा होनी चाहि� । कम शब� दों में अच� छे भाव निकलने चाहि� । भाषा क� लिष� ट होने की जगह जो रोजमर� रा में इस� तेमाल हो रही है उसे ही करना चाहि� । इसके बाद ग� राफिक� स और विज� अल दिखाकर विद� यार� थियों को सम� ाया गया इस दौरान कार� यशाला में शामिल बच� चों के सवालों के जवाब भी दि� गये। इंडिया टी0वी0 के � सोसि� ट प� रोड� यूसर आनंद दूबे ने कहा कि न� यूज में पैराग� राफ की फीलिंग जरूरी है। इसमें तफ� फल� स (उच� चारण) पर विशेष ध� यान देना चाहि� । उपयोग में आने वाले न� शब� दों के बोलने की प� रैक� टिस करनी चाहि� । साहित� य और गजल के भाव को स� नकर सम� ने से न� यूज सेंस डेवलप होता है। इसी तरह से इलेक� ट� रानिक मीडिया की तमाम बारीकियों को भी बताया गया।

दिल� ली के विवेकानन� द इन� सटीट� यूट की असिस� टेन� ट प� रोफेसर आसमां सिंह ग� रेजा ने टी0वी के प� रोडक� शन, प� री प� रोडक� शन और पोस� ट प� रोडक� शन के बारे में विस� तृत रूप से प� रकाश डाला । विश� वविद� यालय के क� लपति प� रोफेसर स� ंदर लाल ने कहा कि जनसंचार विभाग में आयोजित कार� यशाला का लाभ अवश� य बच� चों को मिलेगा क� योंकि बच� चों के कॅरियर के लि� व� यवहारिक ज� ञान बह� त जरूरी है। विभाग की यह पहल बच� चों की आवश� यकताओं को काफीहद तक दूर करने मे सहायक होगी। इसके पूर� व विभागाध� यक� ष डा0 अजय प� रताप सिंह ने अतिथियों का स� वागत कर ब� के और स� मृति चिन� ह भेंट किया। कार� यशाला का संचालन डा0 मनोज मिश� र और धन� यवाद ज� ञापन डा0 अवध बिहारी सिंह ने किया। कार� यशाला में डा0 स� नील क� मार, श� री दिग� विजय सिंह राठौर ,डा0 रूश� दा आजमी , श� री उदित नारायण,श� री पंकज सिंह आदि उपस� थित थे।